गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरूर्देवो महेश्वरः ।
गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ।।

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरूर्देवो महेश्वरः ।
गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ।।

मिडिया

आँजणा समाज वेबसाइट पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,आँजणा समाज आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग ,आँजणा समाज न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

हमारे संवाददाता

पत्रकारिता,लोकतंत्र का चौथा स्तंभ।आपको लगता है कि आपमें पत्रकारिता के गुण हैं और आप अपने क्षेत्र की न्यूज़ देने में सक्षम है एवम पत्रकार बनकर समाज सेवा करना चाहते है तो अभी अपना बायोडाटा रजिस्टर फार्म में भरे और सबमिट करे। हमारी टीम आपसे जल्द ही सम्पर्क करेगी ..

Read more

सम्पर्क सूत्र

हमारे पाठक हमारी आँख और कान हैं। आप जैसे सुधी पाठको के द्वारा हमे जो न्यूज मिलती है, हम उस पर काम करते है ,इस न्यूज पोर्टल पर आपको अपने आसपास, देश और समाज से जुडे सभी छोटे बड़े कई समाचार मिलेंगे। प्रकाशन हेतु आप लोग भी अपने विचार हमें भेज सकते है। न्यूज पोर्टल के जरिए किसी के मान-मर्दन की अनुमति कतई नहीं है।

Read more

आंजना समाज की परंपराए

आंजना समाज की परंपराए

आंजणा जाती अंजना चौधरी के रूप में जान जाती है। अंजना को, "Kalbi" सो भी जानते हैं । भारत में राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश में पाय जाती एक हिंदू जाति है। उन्होंने यह भी विशेष रूप से गुजरात और राजस्थान, और राजस्थान में जागीरदार, जमींदार या Chudhary ओर पटेल के रूप में जाना जाता है। अंजना चौधरी की जाति गुरु संत श्री Rajaramji महाराज (विष्णु के अवतार) है। बिग मंदिर और आश्रम जोधपुर के पास, शिकारपुरा राजस्थान (लूनी) में हैं।

आस्था

शिकारपुरा सहित देश भर में मनाया जाएगा गुरुदेव श्री राजेश्वर भगवान का जन्मोत्सव

जय श्री राजेश्वर भगवान की ..

नशा मुक्ति व मृत्यु भोज बंद करने का संकल्प

सांचौर।आंजणा (पटेल) सेवा संस्थान की बैठक पूर्व विधायक जीवाराम चौधरी के मुख्य आतिथ्य एवं सांसद देवजी पटेल की अध्यक्षता में संस्था अध्यक्ष मोतीराम चौधरी व संरक्षक रूपाराम चौधरी के विशिष्ट आतिथ्य में हुई। बैठक में विद्यालय व महाविद्यालय का निर्माण प्रारंभ करना मय चंदा जुटाने का कार्य शीघ्र प्रारंभ करना, मृत्यु-भोज व नशाबंदी पूर्ण रूप से बंद करना, गंगा-प्रसादी दो बार से अधिक न करना, मृत्यु बाद बारहवें पर आगली व्यवस्था बंद करने, शिक्षा को बढ़ावा देने, घर-घर बालक-बालिकाओं को अनिवार्य रूप से पढ़ाने के प्रस्ताव सर्व सम्मति से पारित किए गए। इस अवसर पर संस्था महासचिव जोधाराम चौधरी, कोषाध्यक्ष प्रभुरा

Pages