गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरूर्देवो महेश्वरः ।
गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ।।

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरूर्देवो महेश्वरः ।
गुरुः साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ।।

मिडिया

आँजणा समाज वेबसाइट पोर्टल में आपका हार्दिक स्वागत है ,आँजणा समाज आपका अपना वेब पोर्टल है इस वेबसाइट में आप हमें समाज से जुडी न्यूज़, कृषि से जुडी न्यूज़ , शिक्षा,समाज न्यूज़ पेपर कटिंग ,आँजणा समाज न्यूज़ के विडियो क्लिप भेज सकते है समाज से जुडी सभी जानकारियो को एक ही जगह समाहित करने का प्रयास किया गया है।

Read more

हमारे संवाददाता

पत्रकारिता,लोकतंत्र का चौथा स्तंभ।आपको लगता है कि आपमें पत्रकारिता के गुण हैं और आप अपने क्षेत्र की न्यूज़ देने में सक्षम है एवम पत्रकार बनकर समाज सेवा करना चाहते है तो अभी अपना बायोडाटा रजिस्टर फार्म में भरे और सबमिट करे। हमारी टीम आपसे जल्द ही सम्पर्क करेगी ..

Read more

सम्पर्क सूत्र

हमारे पाठक हमारी आँख और कान हैं। आप जैसे सुधी पाठको के द्वारा हमे जो न्यूज मिलती है, हम उस पर काम करते है ,इस न्यूज पोर्टल पर आपको अपने आसपास, देश और समाज से जुडे सभी छोटे बड़े कई समाचार मिलेंगे। प्रकाशन हेतु आप लोग भी अपने विचार हमें भेज सकते है। न्यूज पोर्टल के जरिए किसी के मान-मर्दन की अनुमति कतई नहीं है।

Read more

कड़वा सत्य ..

आज विशेष बात मेरे भाइयो के लिए....

बंधुओ विवाह सिजन चालु है...
आप किसी भी बारात में जाओगे तो हाथ जोड़ कर विनती करता हु की कोई भी बहन बेटी नाचती गाती हे तो उसका फ़ोटो वेडियो न ले ..

आप वीडियो ले के करोगे क्या लाइव देख लिया बस..

दुनिया को दिखाने की क्या जरूरत है...??
आपके मोबाईल से आगे जाता है लोग उस पर डांस बार के गाने सेट करते है ।

तो ये हमारे लिए दुःख की बात है की हम खुद ही गलतिया कर रहे है .!!

और सबको मालूम है आपके पास बडा मोबाईल है
दिखावा करने की क्या जरूरत है..??

अपने भाई बंधुओ से मिलो बात करो

Blog Category: 

श्री राजारामजी जीवन कथा ****

गायो चराई गांव री , बिन लकड़ी ले हाथ ।
पग उरबांण घेरता , तन मन सू वे तात ।
गांव धणी रे हली रहता , करता खेती धाप ।
कोई ना वांरी आदर करता , रमता आपो आप ।
रिजको पावत रावलो , करता मोजां मोज ।
भजन करता प्रभु तणा , नित प्रभातो रोज ।
एक दिवस रा बारह सोगरा , रावला सू आता ।
आधा तो आप खुद जिमता, आधा कुत्ता खाता ।
नापट जाय ठाकुर सू कहे , सुण जो बात हमारी ।
ओ मूंगे भाव रो धान बिगाड़े , धापे न मुढ़ भिखारी।
इण रो भातो आधो करदो, छः सोगरा भेजो ।
आप खाय चाहे कुत्ता जिमावे, चाहे भूखो रहिजो।
आवे जिणसूं आध , कुत्तों ने नोकें कहे ।

विशेष सुचना की तरफ ध्यान दे ...

राम राम सा ....
बँधुओ शुभ संध्या एवं नमस्कार !
समस्त मारवाड़ वासियो और देशावर से गए हुए युवाओ से विनती है की आप यहाँ देशवार से जाकर मारवाड़ में ग़ाडी चलाते है जो की अनलिमिटेड स्पीड से उन्ही से भयानक हादसा के चिकार बन जाते है। कृपया वाहन धीरे चलाए। ताकि आप सुरक्षित घर पहुस जाए।
मित्रो सावधानी हटी दुर्गटना घटी..!
जय राजेश्वर भगवान की !!

Blog Category: 

Pages